सात नए ग्रहों की खोज

खगोलशास्त्रियों  ने इस सौरमंडल के बाहर पृथ्वी जैसे सात ग्रहों की खोज की है, जो  एक ही तारे की परिक्रमा कर रहे हैं । मशहूर विज्ञान पत्रिका नेचर में बुधवार को प्रकाशित एक अध्ययन में इन ग्रहों की दूरी 40 प्रकाश वर्ष बताई गई है।   ये ग्रह आकार में पृथ्वी के बराबर हैं,  उनकी सतह ...Read More

इसरो द्वारा 104 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण

आज (15 फरवरी, 2017) इसरो ने आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से 7 देशों के 104 सैटलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजकर इतिहास रच दिया है । हर सेटेलाइट तकरीबन 7.5 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से प्रक्षेपित होगा । बेहद तेज गति से चलने वाले अंतरिक्ष रॉकेट के साथ एक-एक सेटेलाइट के प्रक्षेपण का तालमेल बिठाने के लिए...Read More

स्वदेश निर्मित लड़ाकू विमान तेजस वायुसेना में शामिल

स्वदेश में निर्मित हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस को 1 जुलाई 2016 को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया. HF-24 मारुत के बाद तेजस भारतीय वायुसेना में शामिल होने वाला दूसरा स्वदेशी लड़ाकू विमान है.1967 में वायुसेना में शामिल मारुत ने 1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध में काफी ख्याति हासिल की थी.वायुसेना की ...Read More

इसरो के नेविगेशन उपग्रह ‘आईआरएनएसएस-1एफ’ का सफल प्रक्षेपण

IRNSS
भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के छठे नेवीगेशन सैटेलाइट ‘आईआरएनएसएस-1एफ’ (IRNSS-1F) का 10 मार्च 2016 को श्रीहरिकोटा से सफल प्रक्षेपण किया गया. मुख्य तथ्य: •    नेविगेशन उपग्रह ‘आईआरएनएसएस-1एफ’ का सफल प्रक्षेपण पीएसएलवी सी32 के द्वारा किया गया. •    अंतरिक्षीय कचरे की वजह स...Read More

पृथ्वी जैसे 3 नए ग्रहों की खोज

बेल्जियम की युनिवर्सिटी ऑफ लीज के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के समान ऐसे तीन नए ग्रहों की खोज की है, जहां जीवन की संभावना जताई जा रही है। मिशेल गिलोन और युनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के एक दल ने पांच साल पहले इस परियोजना की शुरुआत की थी, जिसका परिणाम उन्हें पिछले साल बाद सितंबर माह में मिला। शोधार्थियों को य...Read More

ऐन्ट : विश्व का सबसे छोटा नैनो इंजन

कैंब्रिज विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने विश्व के सबसे छोटे इंजन का विकास किया. इस अध्ययन का प्रकाशन पीएनएएस जर्नल में 2 मई 2016 को हुआ. प्रकाश से चलने वाला यह इंजन छोटे मशीनों के विकास में मददगार साबित हो सकता है. यह आकार में एक मीटर के मात्र कुछ अरबवें हिस्सें के बराबर है. इस शोध की अगुआई करने वाल...Read More

स्कॉर्पियन श्रेणी की पहली पनडुब्बी ‘कलवरी’ का सफल परीक्षण

भारतीय नौसेना ने 1 मई 2016 को स्कॉर्पियन श्रेणी की पहली पनडुब्बी ‘कलवरी’ का सफल समुद्री परीक्षण किया. इस पनडुब्बी को मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड मुंबई (एमडीएल) में बनाया गया है एवं यह पूर्ण रूप से स्वदेश निर्मित पनडुब्बी है.अपनी पहली समुद्री परीक्षण के दौरान पनडुब्बी ‘कलवरी’ मुंबई तट से दूर अपनी ...Read More