राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 11 मई 2016 को भारत भर में मनाया गया.इस संबंध पर एक समारोह नई दिल्ली के विज्ञान भवन में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की अध्यक्षता में किया गया.राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2016 का विषय ‘जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान’ है. पूरे देश में शैक्षणिक संस्थान तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से सम्बन्धित संस्थान इसे भारत की प्रौद्योगीकीय क्षमता के विकास को बढ़ावा देने के लिये मनाते हैं. इस दिन उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिये वैज्ञानिकों एवं प्रौद्योगिकीविदों को पुरस्कृत भी किया जाता है. राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस वर्ष 1998 में 11 मई के दिन भारत द्वारा अपना दूसरा सफल परमाणु परीक्षण करने के याद में मनाया जाता है. यह परमाणु परीक्षण पोखरण, राजस्थान में किया गया था. घरेलू स्तर पर तैयार एयरक्राफ्ट हंस-3′ ने भी 11 मई को बेंगलुरु में परीक्षण उड़ान भरी थी और इसी दिन त्रिशूल मिसाइल का भी सफल परीक्षण किया गया था.

वरिष्ठ आईपीएस ऑफिसर कुमार राजेश चंद्रा 5 मई 2016 को नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) के प्रमुख नियुक्त किये गये. कैबिनेट नियुक्ति समिति ने चंद्रा के नाम को मंजूरी प्रदान की. वे आईपीएस जी एस मलही का स्थान लेंगे. मलही नवम्बर 2012 को ही अपना कार्यकाल पूरा कर चुके थे, यह पद तभी से रिक्त था. चंद्रा 1985 बैच के बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. वर्तमान में वे बिहार पुलिस के अतिरिक्त महानिदेशक (आधुनिकीकरण) पद पर नियुक्त हैं.

यह नागरिक उड्डयन सुरक्षा के लिए नियामक संस्था है.सितम्बर 1976 में इंडियन एयरलाइन्स का विमान अपहरण होने के बाद पांडे समिति द्वारा इस ब्यूरो के गठन की सिफारिश की गयी.जनवरी 1978 में नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो की स्थापना की गयी. वर्ष 1985 में एयर इंडिया के विमान हादसे के पश्चात् इसे एक स्वतंत्र एजेंसी बना दिया गया.

बेल्जियम की युनिवर्सिटी ऑफ लीज के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के समान ऐसे तीन नए ग्रहों की खोज की है, जहां जीवन की संभावना जताई जा रही है। मिशेल गिलोन और युनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के एक दल ने पांच साल पहले इस परियोजना की शुरुआत की थी, जिसका परिणाम उन्हें पिछले साल बाद सितंबर माह में मिला। शोधार्थियों को ये ग्रह एक छोटे तारे ट्रैपिस्ट-1 के पास से मिले हैं। ये तीनों ग्रह इस तारे की परिक्रमा करते हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, इन सभी ग्रहों का आकार और तापमान पृथ्वी और हमारे सौर तंत्र के अन्य ग्रहों के अनुकूल है। यह जीवन होने की खोज के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान है। मिशेल गिलोन के अनुसार, हम ऐसे ग्रहों की तलाश कर रहे हैं, जिनकी सतह और स्थिति पृथ्वी के समान हो और वहां जीवन संभव हो।

साइंटिस्ट ने खोजे पृथ्वी जैसे तीन नए ग्रह, जहां जीवन होगा संभव! बेल्जियम की युनिवर्सिटी ऑफ लीज के वैज्ञानिकों ने पृथ्वी के समान ऐसे तीन नए ग्रहों की खोज की है, जहां जीवन की संभावना जताई जा रही है।इस शोध के लिए बेल्जियम के वैज्ञानिकों ने अमेरिका और ब्रिटेन के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर काम किया था। इन्होंने इंटरनेट के माध्यम से आपस में कनेक्ट होकर चिली के प्रोटोटाइप टेलीस्कोप की सहायता से तारों की खोज की थी।

रिलायंस पॉवर को बांग्लादेश सरकार से 4 मई 2016 को 3000 मेगावॉट क्षमता के तरल प्राकृतिक गैस (एलएनजी) आधारित बिजली संयंत्र के प्रथम चरण के लिए सैद्धांतिक मंजूरी मिल गयी.इस मंजूरी के तहत पहले चरण में 750 मेगावॉट का संयंत्र ढाका से 40 किलोमीटर दूर नारायणगंज जिले में मेघनाघाट पर स्थापित किया जाएगा. इसी के साथ एक एफएसआरयू टर्मिनल कॉक्स बाजार जिले में महेशखली द्वीप पर स्थापित किया जाएगा.इसके साथ ही एक तैरता हुए भंडारण एवं फिर से गैसीकरण करने वाली इकाई (एफएसआरयू) का भी निर्माण किया जाएगा ताकि ईंधन को जहाजों में लाया जा सके और इस ईंधन से बिजली संयंत्र को चलाया जा सके.

वर्तमान फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (एफओसी-इन-सी) वाईस एडमिरल सुनील लाम्बा को 5 मई 2016 को भारतीय नौसेना के अगले अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया. वे 31 मई 2016 को 23वें नौसेना प्रमुख के रूप में पदभार ग्रहण करेंगे. भारतीय नौसेना के पहले दो प्रमुख ब्रिटिश नागरिक थे. उनके नाम हैं – एडमिरल सर चार्ल्स थॉमस मार्क पिजी एवं वाईस एडमिरल सर स्टीफन होप कार्लिल. सुनील लाम्बा वर्तमान नौसेना प्रमुख एडमिरल रोबिन के. धोवान का स्थान लेंगे, वे 31 मई 2016 को सेवानिवृत हो रहे हैं. 58 वर्षीय लाम्बा अगले तीन वर्ष तक 31 मई 2019 तक इस पद पर रहेंगे.वे आईएनएस काकीनाडा, आईएनएस हिमगिरी एवं आईएनएस विराट की कमान संभाल चुके हैं.17 जुलाई 1957 को जन्मे लांबा को परम विशिष्ट सवाल मेडल एवं अति विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित किया जा चुका है.

लोक सभा ने 5 मई 2016 को दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता विधेयक 2016 पारित कर दिया. इसका उद्देश्य देश में कारोबार के माहौल को अच्छा बनाना और निवेश को प्रोत्साहित करना है ताकि उच्च आर्थिक वृद्धि दर हासिल की जा सके.पारित किये गए विधेयक में भूपेंद्र यादव की अध्यक्षता में बनी संयुक्त संसदीय समिति की शिफरिशो को शामिल किया गया है. समिति ने 28 अप्रैल 2016 को केंद्र सरकार को रिपोर्ट सौपी थी.

विधेयक के मुख्य प्रवधान:

• इसमें दिवाला संबंधी मामलों का समयबद्ध तरीके से समाधान निकालने का प्रावधान किया गया है.

• प्रस्तावित विधेयक के मुताबिक कारपोरेट क्षेत्र और व्यक्तियों से सम्बंधित दिवाला मामलों का समाधान 180 दिनों में होगा.

• इस संहिता का उद्देश्य कारपोरेट व्यक्तियों और फर्मों तथा व्यक्तियों के दिवाला समाधान, परिसमापण और शोधन क्षमता के लिए न्यायनिर्णय प्राधिकरणों के रूप में करने के लिए है.

• विधेयक में भारतीय दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड स्थापित करने का प्रावधान किया गया है ताकि पेशेवरों, एजंसियों और सूचना सेवाओं के क्षेत्र में कंपनियों, गठजोड़ फर्म और व्यक्तियों के दिवालिया होने के विषयों का नियमन किया जा सके.

• राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) कंपनियों के लिए दिवाला संकल्प पर निर्णय करेगा.

• ऋण वसूली न्यायाधिकरण (डीआरटी) व्यक्तियों के लिए दिवाला संकल्प पर निर्णय करेगा.

• नये विधान से आदतन चूककर्ताओं के विदेशों में स्थित सम्पत्ति को जब्त किया जा सकेगा. इसके लिए वें सीमापार संधि (क्रास बोर्डर ट्रिटी) करेगे.

• इसके माध्यम से कामगारों के अधिकारों की सुरक्षा करने के साथ दिवाला समाधान से संबंधित विधियों का समयबद्ध रीति से ऐसे व्यक्तियों की आस्तियों के अधिकतम मूल्य के लिए समेकन और संशोधन करने का प्रावधान है.

• रूग्ण उद्योगों के कर्मचारियों के हितों को सुरक्षित करने के लिए इसमें विशेष पहल की गई है.

 

प्रख्यात सांख्यिकीविद् डॉ. राधा बिनोद बर्मन ने 4 मई 2016 को राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग के अंशकालिक अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया. प्रो.एस.महेन्द्र देव, प्रो.राहुल मुखर्जी, डॉ. राजीव मेहता और डॉ. मनोज पांडा इस आयोग के अन्य अंशकालिक सदस्य हैं. नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इस आयोग के पदेन सदस्य हैं. यह आयोग सांख्यिकी से जुड़े समस्त मुद्दों पर एक सलाहकार निकाय है जिसका गठन सरकारी आंकड़ों में जनता का विश्वास बढ़ाने के लिए किया गया है.

सी रंगराजन आयोग की सिफारिश पर 1 जून 2005 को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग की स्थापना का आदेश दिया गया.यह एक स्वायत्त संस्था है जिसका निर्माण 2006 में किया गया.इसका उद्देश्य देश की सांख्यिकीय एजेंसियों द्वारा डेटा संग्रह के संबंध में आने वाली समस्याओं को कम करना है.सांख्यिकी एजेंसियां जैसे केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) एवं राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन (एनएसएसओ) राज्य एवं केंद्र सरकारों से डेटा एकत्रित करते समय विभिन्न समस्याओं का सामना करते हैं. ऐसी स्थिति में एनएससी जैसी स्वायत्त संस्था बेहतर तालमेल कर सकती है.इसके द्वारा संग्रह किये डेटा की निष्पक्षता पर विशेष बल दिया गया है ताकि सरकार द्वारा जारी आंकड़ों में जनता का विश्वास बहाल किया जा सके.

कैंब्रिज विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने विश्व के सबसे छोटे इंजन का विकास किया. इस अध्ययन का प्रकाशन पीएनएएस जर्नल में 2 मई 2016 को हुआ. प्रकाश से चलने वाला यह इंजन छोटे मशीनों के विकास में मददगार साबित हो सकता है. यह आकार में एक मीटर के मात्र कुछ अरबवें हिस्सें के बराबर है. इस शोध की अगुआई करने वाले कैवेंडिश प्रयोगशाला के प्रोफेसर जेरेमी बॉमबर्ग ने इस उपकरण का नाम ऐंट रखा है. इससे पानी के अंदर दिशा की पहचान करने, आसपास के वातावरण को समझने या जीवित कोशिकाओं में प्रविष्ट कराकर बीमारियों से लड़ने में मदद मिल सकती है. इस उपकरण का निर्माण सोने के छोटे आवेशित कणों से किया गया है. जब लेजर की मदद से नैनो-इंजन को एक निश्चित तापमान तक गर्म किया जाता है तो यह सेकेण्ड के कुछ हिस्सों में ही बहुत मात्रा में प्रत्यास्थ ऊर्जा एकत्रित कर लेता है. उपकरण को गर्म करने पर पॉलीमर पानी ग्रहण कर लेता है और फैल जाता है एवं सोने के छोटे कण स्प्रिंग की तरह मजबूती एवं तेजी से फैल जाते हैं.

फ्यूचर समूह के प्रमुख कार्यकारी किशोर बियानी को 3 मई 2016 को भारती रिटेल का प्रबंध निदेशक नियुक्त किया गया. दोनों कंपनियों के बीच पिछले वर्ष हुए विलय समझौते के बाद बोर्ड पुनर्गठन के तहत यह घोषणा की गई. इसके अतिरिक्त फ्यूचर समूह के निदेशक राकेश बियानी को भी भारती रिटेल का संयुक्त प्रबंध निदेशक नियुक्त किया गया है. भारती रिटेल का नाम बाद में फ्यूचर रिटेल लिमिटेड रखा जाएगा और इसे शेयर बाजार पर सूचीबद्ध किया जाएगा. मई 2015 में फ्यूचर समूह ने अपनी प्रतिद्वंदी भारती रिटेल का विलय करने पर सहमति जताई थी. विलय का 750 करोड़ रुपये का यह सौदा पूरी तरह से शेयरों के लेनदेन पर आधारित है. इनके विलय से 15,000 करोड़ रुपये के कारोबार वाली एक बड़ी सुपरमार्केट श्रृंखला तैयार होगी.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 03 मई 2016 को नई दिल्ली‍ में आयोजित समारोह में वर्ष 2015 हेतु 63वें नेशनल फिल्म अवॉर्ड “राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार” प्रदान किये. गैर-कथा फिल्म श्रेणी में 21 और कथा फिल्मों के वर्ग में 51 पुरस्कार दिये गये. सिनेमा पर सर्वोत्तम लेखन हेतु तीन पुरस्कार प्रदान किए गए. मनोज कुमार को दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. अमिताभ बच्चन को बेस्ट एक्टर अवॉर्ड, कंगना रनोट को बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड से सम्मानित किया गया.

कथा फिल्म वर्ग में सर्वश्रेष्ठ कथा फिल्म  का पुरस्कार बाहुबली को दिया गया.

• पूर्ण मनोरंजन के लिए सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म का पुरस्काकर हिंदी फिल्म बजरंगी भाईजान को दिया गया.

• ‘पीकू’ से लेकर ‘तनु वेड्स मनु रिटर्न्स’, ‘बाजीराव मस्तानी’, ‘बजरंगी भाईजान’, ‘दम लगा के हइशा’, ‘बाहूबली’ जैसी कमर्शियली कामयाब फिल्मों का अवॉर्ड हेतु चुना गया.

• सामाजिक मुद्दों के मामले में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार निर्णायकम ने जीता.

• संजय लीला भंसाली को उनकी फिल्म बाजीराव मस्तानी के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के प्रस्ताव से सम्मांनित किया गया.

• फिल्म ‘बाजीराव मस्तानी’ को बेस्ट डायरेक्टर, बेस्ट स्पोटिंग एक्ट्रेस, बेस्ट कोरियोग्राफर, बेस्ट कॉस्टयूम, बेस्ट सिनेमटोग्राफी सहित कई अवार्ड्स हेतु चुना गया.

• संजय लीला भंसाली को ‘बाजीराव मस्तानी’ के लिए बेस्ट डायरेक्टर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया.

• अमिताभ बच्चंन को फिल्म पीकू में उनके अभिनय के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और कंगना रानोत को तनु वेड्स मनु रिर्टन्सल के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्का्र से सम्मानित किया गया.

• सर्वश्रेष्ठ बाल फिल्म पुरस्कार हेतु हिंदी फिल्म दुरंतो को चुना गया.

• बेस्ट हिंदी फिल्म आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘दम लगा के हईशा’ चुनी गयी.